जिला जेल के बंदियों की अनोखी पहल

कौशाम्बी

कहावत है कि प्राश्यचित करने से पाप धुलते हैं..। इसे साकार करने के उद्देश्य से जिला कारागार में बंदियों ने नई पहल की है। अपने फटे-पुराने कंबलों को एकत्रित करने के बाद उनकी सिलाई कर रहे हैं और तिरपाल लगाकर बेजुबान मवेशियों को ठंड से बचाने के लिए कवर तैयार कर रहे हैं। जल्द ही सैकड़ों कवर जनपद की गोशालाओं में भेजवाए जाएंगे। जेल अधीक्षक बीएस मुकुंद ने इसके लिए उच्चाधिकारियों से पत्राचार किया है।

जिला कारागार में काफी समय से बंदियों में सुधार की भावना उत्पन्न करने के लिए तरह-तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। कभी पढ़े-लिखे बंदियों के जरिए अनपढ़ों को शिक्षित करने और कभी रोजगार से जोड़ने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण दिए जा रहे हैं। इतना ही नहीं, सुबह-शाम धार्मिक कार्यक्रम भी जेल में अक्सर आयोजित होते रहते हैं। अब इन दिनों बंदियों व कैदियों ने अपने पाप धुलने के लिए बेजुबान मवेशियों की मदद के लिए अपने कदम आगे बढ़ाए हैं। खुद के प्रयोग में लाए जाने वाले फटे-पुराने कंबलों को बीते कुछ दिनों से इकट्ठा कर बंदी उनकी सिलाई कर रहे हैं। इसके बाद तिरपाल का खोल बनाकर उसमें डाल रहे हैं। अब तक 50 से अधिक कवर तैयार हो गए हैं। बंदियों व कैदियों का कहना है कि दो से ढाई सौ कंबल और हैं, जिनकी सिलाई शीघ्र ही हो जाएगी।

Ashok Kesarwani- Editor
Author: Ashok Kesarwani- Editor