राष्ट्रीय लोक अदालत का हुआ आयोजन ,1806 वादों का हुआ निस्तारण

कौशाम्बी

उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देश पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान एवम जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष जनपद न्यायाधीश राम बरन सरोज की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया।

सर्प्रथम माँ सरस्वती की प्रतिमा पर पुष्प अर्जित कर एवम राष्ट्रगान के पश्चात कार्यक्रम का सुभारम्भ किया गया।

इस राष्ट्रीय लोक अदालत में बैंकों के ऋण संबंधी, न्यायालय संबंधी,बिजली,पानी के बिल संबंधी एवम मोटर वाहन अधिनियम से संबंधित वादों का सुलह समझौते के आधार पर निस्तारण किया गया।इस लोक अदालत में जनपद न्यायाधीशों द्वारा न्यायालय से सम्बंधित 522 वादों का निस्तारण किया गया।राजस्व न्यायालय से संबंधित 398 वादों का निस्तारण किया गया । जबकि सभी बैंकों के ऋण से सम्बंधित 886 वादों का निस्तारण करते हुए ₹ 8525231 का टोकन मनी जमा कराया गया।प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय द्वारा 22 वादों का निस्तारण किया गया।वही न्यायाधीश मोटर दावा दुर्घटना द्वारा कुल 12 वादों का निस्तारण कर कुल 457600 का प्रतिकर प्रदान किया गया।इसी प्रकार मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा 304 वादों का निस्तारण करते हुए ₹72800 का अर्थदंड वसूल किया गया।अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा ₹7200 का अर्थदंड वसूला गया एवम 4850978 का उत्तराधिकार प्रमाण पत्र निर्गत किया गया।वही सिविल जज जूनियर डिवीजन द्वारा ₹ 37290 अर्थदंड वसूला गया।इस प्रकार इस राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 1806 वादों का निस्तारण किया गया एवम ₹ 01 करोड़ 80 लाख 72 हजार 499 के संबंध में आदेश पारित किया गया।जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव /सिविल जज विजय कुमार तृतीय ने सभी का आभार व्यक्त किया।

Ashok Kesarwani- Editor
Author: Ashok Kesarwani- Editor